- Advertisement -
मध्यप्रदेशमध्य प्रदेश के प्रमुख पुरुस्कार एवं सम्मान | madhya pradesh ke puraskar...

मध्य प्रदेश के प्रमुख पुरुस्कार एवं सम्मान | madhya pradesh ke puraskar evam samman 

मध्य प्रदेश के प्रमुख पुरुस्कार एवं सम्मान ,मध्य प्रदेश के संस्कृति विभाग ने कला के विकास , साहित्य के क्षेत्र में दीर्ध साधना , उत्कृष्ता तथा श्रेष्ठ उपलब्धि हासिल करने वाली विभूतियों को पुरुस्कृत एवं सम्मानित करने व इनमे राष्ट्रीय मापदंड विकसित करने के लिए राष्ट्रीय व राज्य स्तरीय सम्मानों की घोषणा की है। जो प्रत्येक वर्ष प्रदान किये जाते है।

मध्य प्रदेश के प्रमुख पुरुस्कार एवं सम्मान

  • तानसेन सम्मान
  • कालिदास सम्मान
  • इकबाल सम्मान
  • कुमार गंधर्व सम्मान
  • कबीर सम्मान
  • लता मंगेशकर सम्मान
  • महात्मा गाँधी सम्मान
  • मैथलीशरण गुप्त सम्मान
  • शरद जोशी सम्मान
  • तुलसी सम्मान
  • शिखर सम्मान
  • किशोर कुमार सम्मान
  • देवी अहिल्या बाई पुरुस्कार

तानसेन सम्मान

  • हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन तथा सृजनात्मक कार्यो को सम्मानित करने हेतु वर्ष 1980-81 में इस पुरुस्कार की स्थापना की गई
  • इस सम्मान के तहत 2 लाख रूपए तथा प्रशस्ति पट्टिका भेंट की जाती है।
  • यह पुरुस्कार सर्वप्रथम 1980 में पंडित कृष्णराव शंकर पंडित को दिया गया।
  • 2022 में यह पुरुस्कार। ……………………………….

कालिदास सम्मान कालिदास सम्मान

  • इस सम्मान को वर्ष 1980-81 में स्थापित किया गया। यह सम्मान हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत , शास्त्रीय नृत्य – नाटक , रंगकर्म और रूपंकर कला के क्षेत्र के लिए प्रदान किया जाता है।
  • इस सम्मान के तहत प्रत्येक क्षेत्र में 2 लाख रूपए और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • 1980-81 शास्त्रीय संगीत में पहली बार यह सम्मान पंडित सेमनगुड़ी श्री निवास अय्यर को दिया गया था।

इकबाल सम्मान

  • उर्दू साहित्य में रचनात्मक लेखन के सम्मान के वर्ष 1986-87 में यह सम्मान स्थापित किया गया।
  • इस सम्मान से सर्वप्रथम 1986-87 में अली सरदार जाफरी को सम्मानित किया गया था।
  • इस सम्मान के तहत 2 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है। .
  • 2022 में यह पुरुस्कार। …………………

कुमार गंधर्व सम्मान

  • संगीत के क्षेत्र में युवाओ के बीच रचनात्मकता को प्रोत्साहित करने के लिए वर्ष 1992-93 में कुमार गंधर्व सम्मान स्थापित किया गया था।
  • सर्वप्रथम यह पुरुस्कार अजय चक्रवती को दिया गया।
  • इस सम्मान के तहत 1.5 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • 2022 में यह पुरुस्कार। …………………………..

इन्हें भी देखेंMPPSC 2022: मध्य प्रदेश की लोक शिल्पकला | Madhya Pradesh ki Lok SilpKala

कबीर सम्मान

  • भारतीय काव्य के क्षेत्र में काव्य प्रतिभा का सम्मान करने के लिए वर्ष 1986-87 में स्थापित किया गया।
  • महान संत व कवि कबीर ने सदियों पहले कविता का पुनराविष्कार किया था। और उसे नई निरभीगता दी थीं।
  • इस सम्मान के तहत 3 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • अब तक कन्नड़ ,बांग्ला , पंजाबी , हिंदी , मराठी ,और गुजराती , भाषा के कवियों को यह सम्मान प्रदान किया गया था।
  • प्रथम सम्मान कवि गोपाल कृष्ण अडिग को (1986-87 ) में दिया गया।
  • 2022 में यह पुरुस्कार। ………………………..

लता मंगेशकर सम्मान

  • यह पुरुस्कार सुगम संगीत के क्षेत्र में उत्कृष्ता के सम्मान के लिए वर्ष 1984 में स्थापित किया गया था।
  • किसी भी भाषा के गायक , वादक और संगीतकार को यह पुरुस्कार प्रदान किया जाता है।
  • इस सम्मान के तहत 2 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • इस सम्मान से सर्वप्रथम 1984-85 में नौशाद को नवाजा गया।

महात्मा गाँधी सम्मान

  • गाँधीवादी दर्शन के आधार पर सामाजिक उत्थान के क्षेत्र में कार्यरत संगठनों को यह पुरुस्कार प्रदान किया जाता है।
  • इसकी स्थापना वर्ष 1995-96 में की गई।
  • इस पुरुस्कार से सर्वप्रथम कस्तूरबा गाँधी राष्ट्रीय स्मारक ट्रस्ट इंदौर ( मध्य प्रदेश ) को वर्ष 1995-96 में दिया गया।
  • इस सम्मान के अंतर्गत 10 लाख की राशि दी जाती है।

मैथलीशरण गुप्त सम्मान

  • हिंदी साहित्य की रचनात्मक संरचना के क्षेत्र में उत्कृष्ता को सम्मानित करने के लिए वर्ष 1987-88 में इस सम्मान की स्थापना की गई।
  • यह सम्मान राष्ट्रकवि श्री मैथलीशरण गुप्त की स्मृति में रखा गया है।
  • इस सम्मान से सर्वप्रथम शमशेर बहादुर सिंह को 1987-88 में नवाजा गया।
  • इस सम्मान के तहत 2 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • 2022 में यह पुरुस्कार पुरुस्कार। ………………

इन्हें भी देखेंमध्य प्रदेश की प्रमुख योजनाएं 2022 pdf (mp ki pramukh yojnaye in hindi)

राष्ट्रीय शरद जोशी सम्मान

  • साहित्य एवं लेखन से सम्बंधित लोंगो को इस सम्मान से नवाजा जाता है।
  • निबंध , संस्मरण ,कोष , डायरी , पत्र , और व्यंग्य लेखन के लिए यह सम्मान दिया जाता है।
  • इस सम्मान का उदेश्य साहित्य की उपयुक्त विधाओं की श्रेष्तम प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करना है।
  • श्री हरिशंकर परसाई (1992-93 ) यह सम्मान प्राप्त करने वाले प्रथम व्यक्ति थे।
  • यह सम्मान वर्ष 2016-17 में श्री नर्मदा प्रसाद उपाधयाय को प्रदान किया गया।
  • वर्ष 2018 में यह पुरुस्कार स्व सुशील सिदार्थ एवं रवीश कुमार उपाध्याय को यह पुरुस्कार दिया गया।
  • इस सम्मान के तहत 2 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • 2022 में यह पुरुस्कार। ………………………..

तुलसी सम्मान

  • यह पुरुस्कार आदिवासी , लोक कला और परम्परिक कला के लिए केवल पुरुषो को प्रदान किया जाता है। इस सम्मान की स्थापना 1983-84 में की गई।
  • इस सम्मान से प्रथम बार हीरजी केशव एवं पंडित गिरिजा प्रसाद को नवाजा गया।
  • यह सम्मान तीन वर्ष में दो बार प्रदर्शन कारी कलाओं और एक बार रूपंकर कलाओं के क्षेत्र में दिया जाता है।
  • वर्ष 2016 में यह सम्मान श्री भीखूदान गढ़वी ( लोकगायक ) को प्रदान किया गया।
  • वर्ष 2018 नलिन खोईवाल ( साहित्यकार ) की उनकी कृति गागर – गागर से महासागर के लिए प्रदान किया गया।
  • इस सम्मान के तहत 2 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • 2022 में यह पुरुस्कार। …………………………

राज्य स्तरीय शिखर सम्मान

  • मध्य प्रदेश शासन , संस्कृति विभाग द्वारा कला , साहित्य ,नृत्य , नाटक ,संगीत एवं दुर्लभ वाध वादन की विभिन्न विधाओं के क्षेत्र में राज्य शिखर सम्मान प्रदान किये जाते है।
  • राज्य स्तरीय शिखर सम्मान के लिए मध्यप्रदेश निवासी अथवा ऐसे व्यक्ति , जिन्होने अपना कार्यक्षेत्र मध्यप्रदेश को बना लिया है। पात्र होंगे।
  • यह सम्मान सृजन -सक्रिय कलाकारों / साहित्यकारों को उच्च सृजात्मकता ,आसाधारण उपलब्धि , अनवरत दीर्ध साधना तथा समग्र रचनात्मक अवदान के लिए देय है। इस सम्मान के तहत 1 लाख रूपए और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
सम्मान स्थापना विधा प्रथम पुरुस्कृत व्यक्ति
शिखर सम्मान ( साहित्य )1980-81 साहित्य में श्रेष्ठ कार्य हेतु श्री कांत वर्मा
शिखर सम्मान ( प्रदर्शन कलाएं )1980-81 संगीत , रंगमंच , नृत्य , व लोक कलाओं क्षेत्र में पंडित कार्तिकराम
शिखर सम्मान रूपंकर कलाएं 1980-81 रूपंकर कलाओं में श्रेष्ठ श्री डी.जे. जोशी

किशोर कुमार सम्मान

  • यह पुरुस्कार वर्ष 1997-98 में स्थापित किया गया। हर वर्ष फिल्म निर्देशन , अभिनय , पटकथा , लेखन , और गीत लेखन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए यह पुरुस्कार प्रस्तुत किया जाता है।
  • इस सम्मान के तहत 2 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • सर्वप्रथम यह पुरुस्कार निर्देशन के क्षेत्र में श्री ऋषिकेश मुखर्जी को वर्ष 1997-98 में दिया गया।
  • वर्ष 2022 में यह पुरुस्कार। ………………………….

देवी अहिल्या बाई पुरुस्कार

  • वर्ष 1996-97 में स्थापित देवी अहिल्या बाई सम्मान , आदिवासी , लोककला , और पारम्परिक कला में उत्कृष्टता के लिए केवल महिला कलाकारों को प्रदान किया जाता है।
  • सर्वप्रथम यह सम्मान 1996-97 में तीजन बाई को दिया गया।
  • इस सम्मान के तहत 2 लाख रुपये और प्रसस्ति पट्टिका प्रदान की जाती है।
  • 2022 में यह पुरुस्कार। ………………….

सरकारी exams में पूँछें जाने वाले प्रश्न

Q – कालिदास सम्मान किस क्षेत्र में दिया जाता है

ans – यह सम्मान हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत , शास्त्रीय नृत्य – नाटक , रंगकर्म और रूपंकर कला के क्षेत्र के लिए प्रदान किया जाता है।

Q – तानसेन पुरस्कार किस राज्य द्वारा दिया जाता है

ans – मध्य प्रदेश सरकार द्वारा

Q – कालिदास समारोह में कितनी राशि दी जाती है?

ans – इस सम्मान के तहत 2 लाख रूपए तथा प्रशस्ति पट्टिका भेंट की जाती है

Q – तानसेन सम्मान किस क्षेत्र में दिया जाता है।

ans -हिन्दुस्तानी शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन तथा सृजनात्मक कार्यो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exclusive content

- Advertisement -

Latest article

More article

- Advertisement -