- Advertisement -
computeroperating system in Hindi | ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है इसके कार्य, प्रकार,...

operating system in Hindi | ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है इसके कार्य, प्रकार, विशेषताएं और उदाहरण

operating system computer मे प्रोग्रामों का वह समूह होता है। जो computer system और उनके विभिन्न संसाधनो के कार्यो को नियंत्रित करता है तथा हार्डवेयर ,सॉफ्टवेयर तथा उपयोग करता के बीच संबंध स्थापित करता है यह विभिन्न ऑपरेटिंग सिस्टम के बीच समन्वय भी स्थापित करता है ऑपरेटिंग सिस्टम के बिना कोई भी हार्डवेयर किसी application program को क्रियान्वित नहीं कर सकता। अधिकांश operating system के साथ कुछ application software जैसे- video player, web browser, calculator, आदि पहले से बने होते हैं।

Table of Contents

ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य

  • हार्डवेयर और उपयोगकर्ता के बीच संबंध स्थापित करना।
  • Hardware संसाधनो का नियंत्रण के लिए पृष्ठभूमि तैयार करना ।
  • memory और file प्रबंधन करना तथा memory और स्टोरेज डिस्क के बीच के डाटा का आदान प्रदान करना ।
  • हाहार्डवेयर और सॉफ्टवेयर सेसंबंधित computer के विभिन्न errors को इंगित करना।
  • Computer software तथा डाटा को अवैध प्रयोग 30 सुरक्षित रखना तथा इसकी warning देना।
  • Application software के क्रियान्वयन के लिए पृष्ठभूमि तैयार करना।
  • Hardware संसाधनो का नियंत्रण तथा बेहतर उपयोग को सुनिश्चित करना।
  • Computer चालू किए जाने पर software को द्वितीयक मेमोरी से लेकर प्राथमिक मेमोरी मत डालना तथा कुछ मूलभूत क्रियाएं स्वता प्रारंभ करना।

ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण

➡️ MS DOS (माइक्रो सॉफ्ट doc)

➡️ Apple का mac OS

➡️ माइक्रोसॉफ्ट विंडोज़ – window 95, 98, 2000, ME- milennium , window XP, window vista, windows7 , window 10,

➡️ Unix, Linux, Xenix

➡️ google chrome OS

➡️ Android OS ( mobile phone के लिए)

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार ( types of operating system)

● बैच प्रोसेसिंग ऑपरेटिंग सिस्टम ( Batch processing operating system)

इसमे एक ही प्रकार के कार्यों के एक batch के रूप मे संगठित कर समूह मे क्रियान्वित किया जाता है इसके लिए batch मॉनीटर sortware का उपयोग किया जाता है।

इस system का फायदा यह हैें की program के क्रियान्वयन के लिए computer संसाधन उपलब्ध रहते हैं अतः समय प्रबंधन की आवश्यकता नहीं पड़ती है।

परंतु इसमे user तथा program के बीच क्रियान्वयन के दौरान कोई संबंध नहीं रहता तथा result प्राप्त करने मे अधिक समय लगता है। बीच के परिणामों पर users का कोई नियंत्रण नहीं रहता

उपयोग- इस system का प्रयोग ऐसेे कार्यों के लिए किया जाता है जिसमें मानवीय हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होती या ना के बराबर होती है । उदाहरण के लिए – Statistical analysis, bill print करना, payroll बनाना आदि।

● मल्टीप्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम ( multi programming operating system)

इस प्रकार के operating system मे एक साथ कई कार्य किए जा सकते है। उदाहरण के लिए जब हम किसी प्रोग्राम प्रकार करने के बाद उसका प्रिंट आउट ले रहे होते हैं तो प्रोसेसर खाली बैठने के स्थान पर दूसरे प्रोग्राम को open कर आरंभ कर देता है इसमें printer की आवश्यकता नहीं होती इससे कार्य करने में लगने वाले कुल समय को कम किया जा सकता है 10 संसाधनों के बेहतर और प्रभावकारी उपयोग संभव हो पाते हैं मल्टिप्रोसेसिंग ऑपरेटिंग सिस्टम मे processer एक साथ कई programs को नहीं चला सकता ब्लकि एक समय मे एक ही कार्य को करता हैें। एक कार्य को Complete करने के बाद दूसरे कार्य को किया जाता है

multi programming operating system के लिए एक विशेष हार्डवेयर की आवश्यकता होतीं है इसमे computer की मुख्य memory का आकार बड़ा होना चाहिए। ताकि main memory का कुछ हिस्सा programming के लिए use किया जा सके। इसमे program के क्रम और वरियता क्रम को निर्धारित करने की भी आवश्यकता होती है।

● टाईम शेयरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम ( time sharing operating system)

इस operating system मे एक साथ कई users जिन्हें terminal भी कहते हैं interective मोड पर कार्य कर सकते हैं जिसमें program के कम्प्लीट होने के बाद result को तुरंत दर्शाया जाता है। इसमे users को program के संसाधनो के साझा उपयोग के लिए कुछ समय दिया जाता है। जिसे time slice या Quantam कहतें हैं

input देने और output प्राप्त करने के बीच के समय को turn Around time कहा जाता है। इस time का उपयोग computer द्वारा user के program को क्रियान्वित करने के लिए जाता है

इस operating system मे memory का सही प्रबंधन आवश्यक होता है। क्योंकि कई program एक साथ main memory मे store होते हैं। इस व्यवस्था मे program को memory मे न रखकर program का आवश्यक हिस्सा main memory मे लाया जाता है। इस प्रक्रिया को ( Swapping) कहते है।

● रियल टाईम सिस्टम ( real time system )

इस operating system मे time के according कार्य करने को महत्वता दी जाती हैं इस प्रोग्राम मे result दूसरे प्रोग्राम मे input के रूप मे प्रयोग किया जाता है। यदि पहले program के result मे देरी होने पर दूसरा program रुक जाता है। real time system मे time के according कार्य को जल्दी करने मे help मिलती है।

उपयोग – इस operating system का उपयोग उपग्रह के संचालन, जहाज के नियंत्रण, परमाणु भट्टी, वैज्ञानिक अनुसंधान , रक्षा, शिक्षा, आदि मे जाता है।

Linux ऑपरेटिंग सिस्टम real time operating system का एक है।

● एकल ऑपरेटिंग सिस्टम ( single operating system)

Personal computer के विकास के साथ ही एकल operating system की आवश्यकता महसूस होने लगी इसमे programs के लिए समय सीमा और संसाधनो के बेहतर उपयोग को वरियता ना देकर program की सफलता और उपयोग को अधिक से अधिक user फ्रेंडली बनाने पर जोर दिया गया

MS DOS – microsoft Disk operating system एकल operating system का उदाहरण है।

● एकल मल्टी टास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम (single user multi tasking operating system)

इस प्रकार के computers मे एक साथ कई कार्य किए जाते है इसमे प्रोसेसर अपना कुछ समय सभी चालू programs को देता है तथा सभी program साथ साथ संपादित होते हैं इसमे कार्यो को अलग अलग screen पर उनकी प्रोसेसिंग देखी जा सकती हैं। यह time शेयरिंग software का एक उदाहरण है

Microsoft Window सिंगल user multi tasking का एक उदाहरण है

● मल्टी प्रोसेसिंग सिस्टम ( multi processing system)

इस operating system मे दो या दो से अधिक प्रोसेसर को आपस मे जोड़कर उनका उपयोग किया जाता है। इसमे दो अलग अलग program या एक ही program के भाग क्रियान्वित किए जाते हैं। इसे parallel प्रोसेसिंग भी कहा जाता है

● मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम (multi user operating system)

इस operating system का use network से जुड़े सिस्टम्स मे किया जाता है। इसमे कई users एक ही समय मे computer पर स्थित एक ही data का उपयोग तथा उन्हें प्रोसेस कर सकते है।

Unix , Linux, window-7,आदि multi user operating system के उदाहरण है

● एंबेडेड ऑपरेटिंग सिस्टम ( Embeded operating system)

किसी उपकरण के भीतर स्थित processor का used करने के लिए बना operating system Embeded operating system कहलाता है इस software मे processor के भीतर ही Rom को store किया जाता है।

microwave, washing machine, DVD प्लेयर, electronic watch आदि मे इसका प्रयोग किया जाता है।

●ओपन/ closed सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम ( open/closed source operating system)

Open सोर्स operating system मे software का kernel या source code सभी के लिए उपलब्ध होता है। और इसमे हम अपने अनुसार परिवर्तन कर सकते है इस operating system पर किसी का भी अधिकार नहीं होता इसलिए users कोई भी शुल्क नहीं चुकाना पड़ता है। Linux open सोर्स operating system का उदाहरण है।

closed operating system मे उसका सोर्स coad गुप्त रखा जाता है। तथा user एक निर्धारित शुल्क चुकाकर ही इस software का use कर सकते हैं। windows माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का operating system closed operating system का उदाहरण है

कुछ लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम

( some popular operating system )

• एमएस डॉस ( MS-DOS Microsoft Disk operating system):

यह operating system सन 1981 मे माइक्रोसॉफ्ट और IBM द्वारा बनाया गया था यह एक single user operating system है यह कमांड पर आधारित operating system है क्योंकि इस operating system मे कमांड को computer पर Type करना पड़ता है। जिससे user को कमांड और उसका सिंटेक्स याद रखना पड़ता है। MS-DOS एक 16 bit operating system है।

वर्तमान मे इस operating system का use कम हो गया है। क्योंकि इसे चलाने के लिए सोर्स कोड की आवश्यकता होती हैं और इन सोर्स code को याद करना मुस्किल होता है और इसमे चित्र और ग्राफ नहीं बनाए जा सकते है।

• माइक्रोसॉफ्ट विंडोज ( Microsoft Windows) :

माइक्रोसॉफ्ट कम्पनी द्वारा MS-DOS की कमियों को दूर करने के लिए 1990 मे विंडो 3.0 को बनाया बाद मे इसके आगे इसके और भी वर्जन बनाए गए। जैसे- windows-95 , windows-98, windows ME ( millennium ) , windows-9XP , windows-vista , windows-7 , windows-10 इत्यादि

windows operating system की विशेषताएं :

  • यह graphical user interface (GUI) पर आधारित है इसे सीखना और इस पर कार्य करना आसान होता है।
  • इस operating system मे चित्र, ग्राफ, तथा अक्षर के कार्य भी किए जा सकते है।
  • यह multi tasking single user operating system हैं। इसमे एक साथ कई programs को चलाया जा सकता है।
  • माइक्रोसॉफ्ट विंडोज़ object oriented software हैं।
  • Windows operating system मे सभी programs की कार्य लगभग समान होते हैं इसलिए एक प्रोग्राम का का knowledge दूसरे कार्य programs मे भी उपयोगी होता है।

• यूनिक्स ( UNIX ) :

यह multi user time operating system software हैं। इसका विकास 1970 मे well Laboratories के Ken Thompson तथा David Ritchie द्वारा किया गया था यह नेटवर्क तथा संचार के लिए बनाया गया operating system software है network और डाटा की सुरक्षा करना इसकी विशेषता है। यूनिक्स c programming language में लिखा गया operating system software हैं।

• लिनक्स ( LINUX ) :

LINUX ऑपरेटिंग सिस्टम personal use के लिए बनाया गया multi user , multi tasking, multi processing सॉफ्टवेयर हैं। यह free मे उपलब्ध open source ऑपरेटिंग सिस्टम हैं। जिसका विकास नेटवर्क के प्रयोग के लिए किया गया है।

Q एक computer user जो सॉफ्टवेयर तैयार करता है और उसकी जांच करता है कहलाता है

Ans – programmer

Q windows उदाहरण है

Ans – ऑपरेटिंग सिस्टम software का

Q दो या दो से अधिक program के एक साथ प्रोसेसिंग की प्रक्रिया कहलाती हैं

Ans – multi processing

Q computer शब्दावली मे DOS का अर्थ है

Ans – डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम

Q एंड्रॉयड ( Android) है।

Ans – एक ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर का

Q DOS द्वारा प्रयुक्त बर्ड प्रोसेसर जिसका उपयोग प्रोग्राम या अनुदेशों को लिखने के लिए होता है।

Ans – wordpad

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exclusive content

- Advertisement -

Latest article

More article

- Advertisement -